जेपी इंफ़्रा का निकला दिवाला घर खरीदार हुए परेशान |

जेपी इंफ़्रा का निकला दिवाला घर खरीदार हुए परेशान |

RM | June 19, 2017 | Monday


नोएडा : जेपी ग्रुप के घर खरीदारों की मुसीबते बढ़ती जा रही है | एक बड़े फैसले में रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया ने करीबन 12 कंपनियों के खातों को परिसमापन में डाल दिया है | भूषण स्टील, लेंको, वीडियोकॉन और जेपी ग्रुप की जेपी इंफ़्रा जैसी कंपनियों के बैंक खातों को परिसमापन में डाल दिया है | करीबन 35000 लोगो ने जेपी के अलग अलग प्रोजेक्ट्स में घर खरीदा था और अब उन सभी का भविष्य अँधेरे में नज़र आ रहा है और घर खरीदारों को यह समझ नहीं आ रहा है की वह अब क्या करे और कहा जाए | जेपी ग्रुप के हाउसिंग प्रोजेक्ट क्रिसेंट होम्स के प्रेजिडेंट तेजेंदर खन्ना ने रियल्टी मीडिया से ख़ास बातचीत में यह कहा है कि घर खरीदारों ने लगभग 50-90% पैसा दे रक्खा है जेपी डेवेलपर्स को | उनका यह कहना है कि अगर कंपनी बंद हो गयी तो उन सभी ग्राहकों का क्या होगा जिन्होंने इतनी उम्मीद के साथ जेपी में पैसा लगा रक्खा है |

तेजेंदर खन्ना ने रियल्टी मीडिया को यह जानकारी दी कि कई घर खरीदार अब इतने हताश है की उन्हें अब कोई रास्ता नज़र नहीं आ रहा है और अब वह आत्महत्या की बात कर रहे है | कुछ ही दिनों पहले जेपी घर खरीदारों की एक मीटिंग बुलाई गयी थी जेपी के डायरेक्टर समीर गौर के साथ जिसमे उनका यह कहना था कि जेपी के पास कुछ पैसा बैंकों से आएगा और बाकी बचा पैसा यमुना एक्सप्रेसवे के मोनेटाइजेशन से जो की जेपी के विश टाउन प्रोजेक्ट में लगेगा | तेजेंदर खन्ना का यह कहना है कि घर खरीदारों ने 26000 करोड़ रूपए दिए है जिस रकम को जेपी ने यमुना एक्सप्रेसवे के लिए इस्तेमाल कर लिया है |


MUST WATCH