हरियाणा बिल्डरों: अंतिम रेरा नियम बिना ही शुरू किया प्रोजेक्ट रजिस्ट्रेशन |

हरियाणा बिल्डरों: अंतिम रेरा नियम बिना ही शुरू किया प्रोजेक्ट रजिस्ट्रेशन |

RM | June 17, 2017 | Saturday


नई दिल्ली: हरियाणा सरकार ने राज्य में रियल एस्टेट रेगुलेटरी अथॉरिटी (रेरा) के नियमो को लागू करने के अंतिम चरण पर है मगर बिल्डरों ने इसके बिना ही प्रोजेक्ट का रजिस्ट्रेशन करना शुरू कर दिया है |

पंजीकृत होने वाले प्रमुख लोगों में एम 3 एम के प्रोजेक्ट्स और दो हस्ताक्षर ग्लोबल के प्रोजेक्ट्स है हरियाणा के कार्यकारी निदेशक दिलबाग़ सिंह ने शुक्रवार को कहा। ये दोनों परियोजनाएं नई लॉन्च हैं सिंह ने कहा कि रेरा के तहत पंजीकरण के लिए 12 अन्य परियोजनाओं के लिए भी आवेदन प्राप्त हुए हैं।

हालांकि, राज्य में रेरा को लागू करने के लिए अभी तक नियमों को अधिसूचित नहीं किया गया है, वर्तमान प्राधिकरण प्रकृति में अंतरिम है और पूर्णतया प्राधिकारी नियुक्त होने से पहले अभी भी कुछ समय है। हरियाणा के रेरा प्रवर्तन ढांचा अब सिर्फ मसौदा नियमों के तहत ही काम कर रहा है। सिंह ने कहा कि परियोजनाओं को एक शर्त के साथ मसौदा नियमों के तहत पंजीकृत किया जा रहा है कि यदि कोई परिवर्तन किया गया है, तो वे अंतिम नियमों का अनुपालन करने के लिए आवश्यक कदम उठाएंगे।

सिंह ने यह भी कहा कि अंतिम नियम के 31 जून आने तक होने की संभावना है। लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि डेवलपर्स अपनी परियोजनाओं को नियामक के साथ पंजीकृत नहीं कर सकते। एक वेबसाइट के माध्यम से एक इलेक्ट्रॉनिक फाइलिंग सिस्टम तक तैयार है जो नियमों को अधिसूचित किए जाने के बाद सक्रिय हो जाएगा, डेवलपर्स एक प्रोजेक्ट के कागजात के साथ आवेदन कर सकते हैं।

मिलेनिया और सोलरा-2 हस्ताक्षर वैश्विक आवास परियोजनाएं हैं जो पंजीकृत हैं। मिलेनिया सस्ती खंड में एक परियोजना है। इसमें कालीन क्षेत्र के आधार पर प्रति वर्ग फुट 4,000 रुपये की कीमत वाले 1,448 इकाइयां होंगी। सोलएरा -2, सस्ती खंड में भी है, जिसमें कुल 448 इकाइयां हैं। दोनों परियोजनाओं को इस महीने शुरू किया जाएगा जिसे 2021 में पूरा किया जाना है ।

हस्ताक्षर ग्लोबल के चेयरमैन और सह-संस्थापक प्रदीप अग्रवाल का कहना है कि आरएआरए के साथ पंजीकरण परियोजना में फ्लैट्स खरीदने में खरीदारों को अतिरिक्त आत्मविश्वास देना चाहिए।


MUST WATCH