बिल्डरों के खिलाफ हुई जमकर शिकायतें |

बिल्डरों के खिलाफ हुई जमकर शिकायतें |

RM | June 19, 2017 | Monday


नोएडा: एमिटी विश्वविद्यालय में आयोजित 'नोएडा एवं ग्रेटर नोएडा आत्म निरीक्षण समस्या एवं समाधान' कार्यक्रम में 200 से ज्यादा शिकायतें बिल्डरों के खिलाफ हुई । इस कार्यक्रम में 150 से अधिक फ्लैट खरीदारों ने अपनी शिकायतें रखी। जिसमे सबसे अधिक शिकायत देर से फ्लैट पर कब्जा मिलने की थी। इसके लिए प्राधिकरणों के अधिकारियों ने एक साथ मिलकर समस्याओं के समाधान का आश्वासन दिया। कई महिलाओं ने भी अपनी शिकायत मंच पर जाकर सुनाई। फ्लैट खरीदारों के अलावा मुआवजा, दादरी में आरओबी, दादरी बाईपास, विभिन्न कॉलोनियों में सुविधाएं देना, सुरक्षा आदि से संबंधित शिकायतें रही। इस मौके पर दादरी विधायक तेजवीर नागर, जेवर विधायक धीरेंद्र सिंह, बिजली विभाग के अधीक्षण अभियंता मुकुल सिंघल, विमला बॉथम, सहित कई लोग मौजूद रहे। लोगों से उनकी समस्याओं के लिए सीधा संवाद करना जरूरी है। इससे वह अपनी समस्याएं बेझिझक होकर रख सकेंगे। लोगों द्वारा बताई गई समस्याओं का निराकण जरूर होगा। इसी लिए सभी विभाग के आला अधिकारियों को यहां आमंत्रित किया गया था।' डॉ. महेश शर्मा, केंद्रीय मंत्री एवं स्थानीय सांसद नियमित रूप से लोगों की समस्याओं की जानकारी ले रहा हूं। इसके निस्तारण के लिए प्रदेश सरकार से लेकर संबंधित अधिकारियों के पास भी गया। उम्मीद है कि इसी तरह लोगों की समस्याओं का निस्तारण होता रहेगा।

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ देवाशीष पांडा ने कहा कि औद्योगिक विकास कहीं न कहीं पीछे छूट रही है। ऐसे में इसके विकास के लिए काम किया जाएगा। इसके लिए प्रत्येक मंगलवार को औद्योगिक इकाइयों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक आयोजित कर उनकी समस्याओं का समाधान होगा। वही रिहायशी इलाकों की समस्याओं के लिए बिल्डर, फ्लैट खरीदार के साथ बैठक होगी।

मेरठ मंडल के कमिश्नर और ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के चेयरमैन प्रभात कुमार ने कहा कि प्राधिकरणों में काफी भ्रष्टचार हैं। अगर यह उजागर हो तो कई घोटाले पीछे छूट जाएंगे। उन्होंने कहा कि प्राधिकरणों के अधिकारी और कर्मचारी खुद में ऊंची चीज हैं। लिहाजा भ्रष्टाचारियों को सजा मिलनी चाहिए, नहीं तो ईमानदार अधिकारियों के साथ न्याय नहीं होगा। कई अधिकारियों की जांच भी चल रही है, जिससे भ्रष्टचार उजागर होने की उम्मीद है। उन्हें सजा भी मिलेगी।


MUST WATCH